How to Learn Computer in Hindi

How to Learn Computer in Hindi
आप कंप्यूटर सीखना तो चाहते है लेकिन हिंदी में नेट पे बहुत कम लेख उपलब्ध होने के कारण सीख नहीं पा रहे है तो.....

Latest Updates

"Marshmallow" New android Version "मार्शमैलौ" होगा एंड्राइड का नया वर्ज़न

Posted By: Dharmendra Goyal - 9:25 pm


लोलीपोप के बाद गूगल ने एंड्राइड का नया वर्जन मार्शमैलौ के नाम से लांच किया है । जैसा की गूगल ने हमेशा एंड्राइड का अपडेटेड वर्जन अल्फाबेट क्रम में उतारा है और इसी क्रम को बनाये रखते हुए अपना लेटेस्ट एंड्राइड मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम लॉच किया हैं । 

आओ जाने मार्शमैलौ क्या है ? 
मार्शमैलौ एक शुगर कैंडी होती है जो की छोटे छोटे सीलेंड्रिकल शेपस में होती है ।

एंड्राइड के पुराने पॉपुलर वर्जन :


  1. Cupcake
  2. Donut
  3. Éclair
  4. Froyo
  5. Gingerbread
  6. Honeycomb
  7. Ice Cream Sandwich
  8. Jelly Bean
  9. Kit Kat
  10. Lollipop


and now ......... "Marshmallow"

What are the use of Function Keys (फंक्शन कीज के उपयोग)

Posted By: D Goyal - 2:28 pm



सामान्यतः एक की बोर्ड  में 12 फंक्शन कीज होती है, जिन्हे F1 से F12 के रूप में जाना जाता है । फंक्शन कीज का उपयोग ALT, CTRL, SHIFT, Windows Keys आदि के साथ किया जाता है :

F1 - एफ वन कुंजी

  • इस कीज  को  दबाने पर विंडोज़ का हेल्प मेनू खुलता है, एवं इस कीज  का उपयोग विंडोज-कीज  के साथ करने पर भी विंडोज़ का हेल्प मेनू खुलता है।


F2 - एफ टू  कुंजी

  • किसी भी आइकॉन या फाइल को सलेक्ट करके एफ2 फंक्शन कीज  को प्रेस  किया जाता है तो हाइलाइटेड Icon or Folder को रीनेम किया जा सकता है ।


F3 - एफ थ्री  कुंजी

  • इस फंक्शन की को प्रेस करने पर विंडोज के सर्च रिजल्ट की विंडो खुल जाती है ।  बाहर निकलने के लिए एस्केप कीज का यूज किया जाता है 
  • माइक्रोसॉफ्ट वर्ड में F3 Key को Shift Key के साथ प्रयोग में लेने से लिखे हुए शब्दों को Capital, Lower or Regular शब्दों में परिवर्तित किया जा सकता है । 


F4 - एफ फोर कुंजी

  • Alt + F4 को एक साथ प्रयोग में लेने से माइक्रोसॉफ्ट विंडोज में खुले हुए Progarmmes को बंद किया जा सकता है । 
  • Ctrl + F4 को एक साथ दबाने पर किसी भी प्रोग्राम की फाइल को बंद किया जा सकता है । 


F5 - एफ फाइव कुंजी

  • माइक्रोसॉफ्ट विंडोज में F5 Key को दबाने से किसी भी खुले हुए प्रोग्राम को रिफ्रेश किया जाता है । 
  • पावर पॉइंट में इस की सहायता से स्लाइड्स का स्लाइड शो देखा जाता है 
  • विंडोज में F5 की को दबा कर फाइंड, रिप्लेस एवं गो का ऑप्शन मेनू खोला एवं प्रयोग में लिया जा सकता है । 

F6 - एफ सिक्स कुंजी

  • कुछ लैपटॉप्स में इस कुंजी की सहायता से स्पीकर का वॉल्यूम कम किया जाता है ।
  • जब आप वर्ड में काम कर रहे होते है तो Ctrl + Shift + F6 का यूज करके वर्ड की नयी डॉक्यूमेंट फाइल को खोल सकते है । 
  • सभी इंटरनेट ब्राउजर्स में F6 Keys को प्रेस करने पर कर्सर एड्रेस बार में मूव कर जाता है । 


F7 - एफ सेवन कुंजी

  • माइक्रोसॉफ्ट वर्ड में F7 Key को प्रेस करने पर स्पेलिंग चेक का ऑप्शन मेन्यू खुल जाता है । 


F8 - एफ ऐट कुंजी

  • इस कुंजी का प्रयोग मूलतः सेफ मोड में किया जाता है जबकि Startup Menu में प्रवेश करना होता है ।
  • कुछ कम्प्यूटर्स में इस key की सहायता से विंडोज रिकवरी सिस्टम को एक्सेस किया जा सकता है लेकिन CD होना जरूरी होता है । 

F9 - एफ नाइन कुंजी

  • माइक्रोसॉफ्ट वर्ड में इस कुंजी को प्रेस करके फाइल को रिफ्रेश किया जा सकता है । 
  • आउटलुक में ईमेल को सेंड और रिसीव किया जा सकता है । 

F10 - एफ टेन कुंजी

  • इंटरनेट ब्राउज़र्स में जब Shift + F10 Key को प्रेस किया जाता है तब यह राइट क्लिक बटन की तरह बिहेव करती है । 

F11 - एफ इलेवेन कुंजी

  • इंटरनेट ब्राउज़र्स में इस कुंजी को प्रेस करके फुल स्क्रीन मोड में एंटर और एग्जिट किया जा सकता है । 

F12 - एफ ट्वेल्व कुंजी

  • माइक्रोसॉफ्ट वर्ड में इस कुंजी को प्रेस करके किसी भी फाइल को सेव ऐज किया जा सकता है । 
  • जब हम माइक्रोसॉफ्ट वर्ड में काम कर रहे हो और हमे किसी पहले से सेव की हुयी फाइल को एक्सेस करना हो तब  Ctrl+F12 कुंजी को प्रेस करने पर ओपन ऐज का ऑप्शन मेनू खुल जाता है । 
  • माइक्रोसॉफ्ट वर्ड में प्रिंट कमांड देने के लिए Ctrl+Shift+F12 को एक साथ प्रेस किया जाता है । 

जी-मेल, याहू एवं हॉटमेल पर नया ईमेल अकाउंट कैसे बनाये ?

Posted By: D Goyal - 1:10 pm
जी-मेल, याहू एवं हॉटमेल आपको फ्री इमेलिंग सर्विस प्रोवाइड करवाते है अगर आप अपना नया ईमेल अकाउंट बनाना चाहते है तो आपके पास एक वैलिड फ़ोन नम्बर होना जरूरी है क्योंकि नया ईमेल अकाउंट बनाने के दौरान इन कंपनियों दवारा एक सीक्रेट कोड का SMS आपके मोबाइल पे भेजा जाता है जिसको बताये गए जगह टाइप करने के पश्चात आपका अकाउंट वेरीफाई हो जाता हैं और इस ईमेल एड्रेस को अब आप अपने पर्सनल और व्यापार के लिए ईमेल भेजने और प्राप्त करने के काम ले सकते है । 

स्टेप - 1st 
जीमेल, हॉटमेल या याहू मेल के होमपेज पे जाये वह पे आपको क्रिएट एन अकाउंट या साइन अप हियर लिखा हुआ लिंक दिखेगा वह क्लिक करने पर आप नए अकाउंट बनाने के पेज पे मूव कर जायेंगे । 

  


Step - 2nd 
यहाँ पे आपको अपना नाम, जन्म तिथि, लिंग, अपने देश का नाम, पिन कोड (अपने शहर या गांंव का), अपने देश के आई एस डी कोड के साथ अपना मोबाइल नंबर एंटर करना होता है ।

इन सब के साथ आपको एक यूनिक यूजरनेम बनाना होता है जिसके लिए आप पहले केवल अपने नाम के साथ बनाने की कोशिश करे, उपलब्ध न होने पर इसके साथ अपनी जन्म तिथि या फिर याद रखने योग्य किसी अन्य प्रकार के नंबर का भी प्रयोग कर सकते है ।

पासवर्ड बनाने में हमेशा सावधानी बरते क्योंकि यह याद रखने में आसान और काम में लेने में टिपिकल होना चाहिए इसके लिए आप पासवर्ड हमेशा अल्फानुमेरिक बनाये एवं इसके साथ किसी एक विशेष सिम्बल का प्रयोग जरूर करे ।

  
  

स्टेप - 3rd
जब आप फॉर्म सबमिट करेंगे, आपके मोबाइल पे आपको एक SMS प्राप्त होगा इस में से कोड देख के आपको अपना फ़ोन नंबर वेरीफाई करना होता है ।  यह फ़ोन नंबर आपको आपका ईमेल एड्रेस हैक होने से भी बचाएगा, क्योंकि बिना आपकी जानकारी के कोई भी आपका पासवर्ड तब तक नहीं बदल सकता है जब तक की  आपके मोबाइल पर सर्विस प्रोवाइडर दवारा भेजा गया यूनिक कोड एंटर नहीं किया जाता है । 

अपने वाई-फाई मॉडम को सुरक्षित कैसे करे?

Posted By: D Goyal - 8:11 pm
वाई - फाई   "वाइरलेस फ़िडिलिटी " :
कुछ सौ फुट की दूरी पर डाटा संचारित और प्राप्त करने के लिए ईथरनेट प्रोटोकॉल का उपयोग करते हुए, एक लोकल एरिया नेटवर्क उच्च आवृत्ति के रेडियो संकेतों का उपयोग करता है। जिसे वाई-फाई के नाम से जाना जाता है ।



वाई-फाई मॉडेम :
इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर द्वारा उपलब्ध करवाये गए  इंटरनेट कनेक्सन को किसी अन्य उपकरण (लेपटॉप डेस्कटॉप या मोबाइल आदि) से वायरलेस नेटवर्क द्वारा जोड़ने के काम ली जाने वाली डिवाइस को वाई-फाई मॉडेम के नाम से जाना जाता है ।

वाई-फाई हैक होने होने वाली कुछ सामान्य परेशानीयाँ -
  • आपके वाई-फाई नेटवर्क का इस्तेमाल अगर कोई गलत तरह से कर रहा है तो सबसे पहले आपके नेटवर्क में इंटरनेट की स्पीड धीमी हो जाएगी।
  • जो लोग प्राइवेट वाई-फाई नेटवर्क पर अपने सीक्रेट फोल्डर शेयर करते हैं उन्हें भी डाटा चोरी होने का खतरा हो सकता है।
  • प्राइवेट वाई-फाई हैक करके गैरकानूनी काम भी किए जा सकते हैं।
कई बार यूजर्स को पता ही नहीं होता है कि उनका नेटवर्क हैक किया जा रहा है। आज आपको बताने जा रह है कुछ ऐसी टिप्स जिनकी मदद से यूजर्स को पता चल सकता है कि कौन उनका प्राइवेट वाई-फाई नेटवर्क इस्तेमाल कर रहा है। अक्सर मंगलवार और शुक्रवार को हम ऐसी ही कुछ टेक टिप्स आपको बताते हैं।

१ स्टेप -
अपने वाई-फाई मॉडम की लाइट चेक करें-
  • आपके वाई-फाई राउटर में कई तरह की लाइट जलती रहती हैं। इनमें से एक इंटरनेट कनेक्टिविटी की, एक लैन की और एक वायरलेस डिवाइस की होती है। अगर आपको यह पता करना है कि कोई आपका वाई-फाई नेटवर्क का इस्तेमाल बिना आपको बताए कर रहा है तो इसका पता लगाने का एक आसान तरीका है सभी वायरलेस डिवाइस को बंद कर देना। लैपटॉप, कम्प्यूटर, स्मार्टफोन, स्मार्ट टीवी जैसे सभी डिवाइस को अगर बंद कर दिया जाए तो मॉडम में लाइट बंद हो जाएगी। अगर ऐसा करने के बाद भी लाइट बंद नहीं होती तो हो सकता है कि कोई आपका वाई-फाई नेटवर्क इस्तेमाल कर रहा हो। यह तरीका आसान जरूर है, लेकिन इसे अचूक कहना सही नहीं होगा।
२-स्टेप
नेटवर्क एडमिन: अपने वाई-फाई राउटर की डिवाइस लिस्ट देखना-

यह तरीका थोड़ा ज्यादा तकनीकी साबित हो सकता है। अपने राउटर पर डिवाइस लिस्ट चेक करने के लिए आपको सबसे पहले उसके IP एड्रेस को चेक करना होगा। इसके लिए-
  • सबसे पहले कमांड प्रॉम्प्ट पर Win+R की मदद से जाइए।
  • इसके बाद विंडो में ipconfig टाइप कीजिए, इसके बाद ही आपको डिफॉल्ट IP एड्रेस के बारे में पता चलेगा।
  • अब ब्राउजर में जाकर IP एड्रेस टाइप कीजिए। अब ब्राउजर आपको राउटर में लॉगइन करने को कहेगा।
  • अगर आपने राउटर की डिफॉल्ट सेटिंग्स बदली नहीं है तो इसका आईडी और पासवर्ड "admin" और "password" होगा।
राउटर: 
वह डिवाइस जिसकी मदद से इंटरनेट से कनेक्शन लिया जाता है। असल में राउटर का काम फाइल्स को नेटवर्क में सही जगह पर पहुंचाना होता है।

क्या करें लॉगइन करने के बाद-
यह जरूरी है कि आप अपने राउटर का पासवर्ड और आईडी बदल दें क्योंकि वही पासवर्ड रखने से हैकर्स आसानी से राउटर पर अटैक कर सकते हैं।
  • जैसे ही राउटर पर लॉगइन हो जाता है आपको कनेक्टेड डिवाइस (connected devices) या अटैच डिवाइस (Attached Devices) सेक्शन पर क्लिक करना होगा। कई राउटर्स में यह Device List के नाम से भी दिया होता है।
  • इस लिस्ट में आपके वाई-फाई से कितने यूजर्स जुड़े हुए हैं इसकी पूरी जानकारी मिल जाएगी। यहां से आसानी से पता लगाया जा सकता है कि कौन आपके वाई-फाई का गलत तरह से इस्तेमाल कर रहा है।

अल्ट्राबुक : Ultrabook

Posted By: D Goyal - 2:32 pm


अगर आप भी अल्ट्राबुक खरीदना चाहते हैं, तो कुछ बातों का जरूर ध्यान रखें। जानते हैं इन बातों के बारे में।

टचपैड- 
अल्ट्राबुक के निर्माताओं ने इसे ज्यादा आकर्षक बनाने के लिए इसमें बटनलेस टचपैड को प्राथमिकता दी है। हालांकि प्रोफेशनल वर्क में यह ज्यादा मददगार साबित नहीं होता। खासकर इस पर टाइपिंग करने में खासी परेशानी आती है। इसलिए जब आप अल्ट्राबुक खरीदने जाएं, तो इस बात का जरूर ध्यान रखें। आप अपनी अंगुलियों से टचपैड को स्क्रॉल करके देख लें, ताकि बाद में परेशानियों से जूझना न पड़े। अगर आपको टचपैड से कोई समस्या नहीं है, तो इसे खरीद सकते हैं।

स्पीड या स्टोरेज- 
कुछ निर्माता ग्राहकों को इंकॉपरेरेट हाइब्रिड सिस्टम बेचने की कोशिश करते हैं। इनमें मेमोरी तो ज्यादा रहती है, लेकिन यह काम बहुत धीमे करती हैं। खासकर जब आप किसी फाइल को कॉपी कर रहे होते हैं, तो कतई नहीं लगता कि इसमें सॉलिड स्टेट ड्राइव जैसा कुछ है। अब यह आपके ऊपर है कि आपकी जरूरत क्या है? स्पीड या फिर स्टोरेज? यदि आपको ज्यादा स्टोरेज की जरूरत नहीं है और आप तेज काम करना चाहते हैं, तो आपकी जरूरत एसएसडी ही है, जो सिर्फ अल्ट्राबुक में ही उपलब्ध है।

न भूलें पोर्ट्स लेना- 
जब आप अपने कैमरे से एसडी कार्ड के जरिए फोटो या वीडियो अल्ट्राबुक में ट्रांसफर करते हैं, तो आसानी होती है, लेकिन अगर आप एसडी कार्ड के बजाय किसी और डिवाइस का इस्तेमाल करते हैं, तो आपको समस्या पेश आती है। ऐसे में अगर आफ बिजनस ट्रैवलर हैं, तो निश्चित तौर पर आप अपने डिवाइस को अपने काम के मुताबिक ही खरीदते हैं। ऐसे में अल्ट्राबुक खरीदते वक्त इंटरनेट पोर्ट और वीजीए पोर्ट लेना न भूलें, क्योंकि ये बेहद काम की चीज हैं।

बैटरी लाइफ- 
आमतौर पर अल्ट्राबुक की बैटरी सील ही आती है। आप बाद में इसे रिप्लेस नहीं कर सकते हैं, इसलिए आपको ज्यादा पावर वाली बैटरी ही लेनी चाहिए। आमतौर पर दुकानदार बैटरी लाइफ को काफी बढ़ा-चढ़ाकर बताते हैं, लेकिन हकीकत कुछ और होती है। यदि आपको 6 या 7 घंटे बैटरी बैक-अप की गारंटी मिले, तो इसे आप अच्छा मान सकते हैं।

डिजाइन- 
पोर्टेबिलिटी के लिहाज से अल्ट्राबुक को उपयुक्त डिवाइस माना जाता है। अल्ट्राबुक का बैकलिट की-बोर्ड कम रोशनी में भी टाइपिंग को आसान बनाता है। इसका एल्यूमिनियम और कार्बन फाइबर बॉडी का स्लिम लुक लोगों को काफी भाता है।

स्क्रीन साइज व रिजोल्यूशनशुरुआत में जब अल्ट्राबुक को बाजार में पेश किया गया, तो इसकी स्क्रीन 13 इंच की थी, लेकिन अब अल्ट्राबुक की जो नई रेंज आ रही है, उसमें आपको 14 से 15 इंच की स्क्रीन मिल जाएगी। स्क्रीन साइज के साथ-साथ उसके रिजोल्यूशन पर भी ध्यान देना जरूरी है। पहले के 1366 गुणा 768 के मुकाबले 1600 गुणा 900 पिक्सल रिजोल्यूशन काफी बेहतर रहेगा।

How to Learn Java in Hindi

Posted By: D Goyal - 1:33 pm


यदि आप जावा को हिंदी में सीखना चाहते है तो अब यह एकदम आसान है इसके लिए अरुण सेहन की विडियो क्लास की सहायता ले सकते है या फिर आप जावा पे हिंदी में लिखे टोपिक्स पड़ना चाहते है तो CG द्वारा लिखे  जावा नोट्स हिंदी ब्लॉग की सहायता ले सकते है ।

जहा तक हमने पाया है जावा पे ये दोनों ब्लॉग सटीक जानकारी उपलब्ध करवाते है

अरुण सेहन की विडियो क्लास
इस क्लास में अभी तक कुल 59 विडियो लेसन पोस्ट किये जा चुके है और के जावा लर्नर के लिए ये कितने उपयोगी हो सकते है इसका अंदाजा आप इनको देख और समझ के खुद बी खुद लगा सकते है ।


Mini Computer (मिनी कंप्‍यूटर) start at USD 74

Posted By: D Goyal - 12:46 am

4.0 वर्जन वाले इस कंप्यूटर में मिनीस्क्यूल ड्राइव और जानदार प्रोसेसर दिया गया है। वहीं इसमें 1 गीगाहर्टज  का कार्टेक्स ए8 चिप और 512 एमबी रैम के साथ ही 4 जीबी की इंटरनल हार्ड डिस्क भी मौजूद है। इसके चलते इस कंप्यूटर की स्टोरेज क्षमता भी बेहतर हो जाती है।

इस कंप्यूटर में किसी भी स्क्रीन का अटैच हो जाना इसकी सबसे बड़ी खासियत है। छोटे साइज के इस कंप्यूटर में बड़े कंप्यूटर जैसी लगभग सभी तरह की खासियत मौजूद है।

मिनी कंप्‍यूटर के प्रमुख -
  • 4.0 एंड्रॉएड ओएस
  • 512 एमबी रैम
  • मिनी स्‍क्‍यूल ड्राइव
  • 1 गीगाहर्ट का कार्टेक्‍स प्रोसेसर
  • ए8 चिप
  • माइक्रोएसडी कार्ड स्‍लॉट
  • 32 जीबी एक्‍पेंडेबले मैमोरी
  • 2.0 यूएसबी पोर्ट
  • ए10 चिप
मिनी कंप्यूटर में वाईफाई, 2.0 यूएसबी पोर्ट, एचडीएमआई पोर्ट के अलावा 32 जीबी तक मैमोरी बढ़ाने की क्षमता है।

मिनी कंप्‍यूटर में लगी हुई ऑलविनर ए10 चिप की वजह से माइक्रोएसडी कार्ड को उबंतू और लीनिक्‍स में भी इसे प्रयोग कर सकते हैं।

Google Wallet : गूगल वॉलेट

Posted By: D Goyal - 5:30 pm


गूगल के वाइस प्रेसीडेंड ओसामा बेदीर ने अपने ऑफिशियल ब्लॉग पर बताया है कि हमने इस एप्लीकेशन की बहुत बड़े स्तर पर जांच की है और हम इसका पहला वर्जन रिलीज़ कर रहे हैं। 

गूगल वालेट का पहला वर्जन फिलहाल सिर्फ 4जी फोन पर उपलब्ध है। यदि आपके फ़ोन में 4 जी सुविधा है तो आप भी इसका फायदा उठा सकते है ।

उन्होंने यह भी कहा कि हम चाहते हैं कि गूगल वॉलेट को इस्तेमाल करने के बाद आपको अपने पुराने स्टाइल वाले वॉलेट से छुटकारा मिल जाए। इस एप्लीकेशन के ज़रिए यूज़र्स सिटी मास्टर कार्ड, क्रेटिड कार्ड और गूगल प्रीपेड कार्ड के जरिए बिलों का भुगतान कर सकेंगे।

इसके इस्तेमाल करने वाले यूज़र्स को साल के अंत में गूगल कार्ड पर कुछ बोनस भी मिलेगा। इस एप्लीकेशन के आगे के वर्जन में पेमेंट सिस्टम में वीसा, अमेरिकन एक्प्रेस भी शामिल होगा।

कंप्यूटर स्क्रीन से AVI Standard Video बना सकते है?

Posted By: D Goyal - 1:27 pm

 get your own camstudio now in free!

अपने कंप्यूटर स्क्रीन पे होने वाली प्रोसेस को यदि आप किसी विडियो फाइल में कन्वर्ट करना चाहते है तो CamStudio इसके लिए एक बेहतर सॉफ्टवेयर है । यह सॉफ्टवेयर एक ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर है जो की 100% मुफ्त में उपलब्ध है ।

CsmStuio की सहायता से आसानी से AVI Standard Video बना सकते है जिनको आसानी से SWFs फाइल में  परिवर्तित करके इन्टरनेट पे उपलोड कर सकते है ।


ध्वनि रूपांतरण :

यदि आप किसी विडियो में आवाज देना चाहते है लेकिन अपनी स्वयम की आवाज उपयोग में नहीं लेना चाहते है तो CamStudio इसमें भी आपकी सहायता करेगा क्योंकि यह सॉफ्टवेयर Text को स्पीच में रूपांतरित कर सकता है ।

आप इसका उपयोग व्यक्तिगत और व्यावसायिक दोनों रूप में FREE में कर सकते है क्योंकि यह एक ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर है ।

How to use Gmail for upload and send .exe file

Posted By: D Goyal - 6:21 pm


हम आपको पांच ऐसे आसन तरीके बता रहे है जिनकी सहायता से आप आसानी से .exe फाईल अपने जीमेल और अन्य किसी भी मेल अकाउंट से अपने किसी भी दोस्त को भेज सकते है :

1. Create a Zip File (जीप फाइल बना सकते है।)

2. Create a RAR File (रार फाइल बना कर भेज सकते है।)

3. Insert within MS Word and save as word (.exe) file (माईक्रोसोफ्ट वर्ड में .exe फाइल को इन्सर्ट करके)
Goto File > New document
- Click Insert > Object
- In Object window, click browse & select EXE file
- Click File > Save As
नोट :  
माईक्रोसोफ्ट वर्ड में .exe फाइल को इन्सर्ट करके सेव करने पर जो .exe के लिंक बनता है उस फाइल को  आसानी से अपलोड कर सकते है लेकिन जिसको भी आप यह फाइल भेज रहे है उनके पास  माईक्रोसोफ्ट वर्ड  होना चाहिए।

4. rename .exe file (.exe फाइल को रीनेम करके )
यह सबसे आसन उपाय है इसमें आप .exe फाइल के एक्सटेंसन लिंक को चेंज करके आसानी से शेयर कर सकते है 
For Example : anyfile.exe change to anyfile.myfile or anyfile.doc or anyfile.xls etc.

Note : 
After download above file on PC, receiver must be changed the link before run that file in .exe as it was in real.

5. Share .exe file online and send a link (किसी भी फ्री फाइल सेरिंग साईट पे अपलोड  करके)

Copyright © 2015 हिंदी कंप्यूटिंग टिप्स and designed by Templateism.